Header Ads

BAARISH SHAYARI IN HINDI | SMS-STATUS |

हमारे ब्लॉग "Baarish Shayari" पर आपका स्वागत है! वर्षा हमेशा से प्यार, जुनून और रोमांस का प्रतीक रही है, साहित्य और कविता में। यह खुशी से दुख तक की एक विभिन्न भावना को जागृत करती है और सदियों से कवियों और लेखकों को प्रेरित करती है। इस ब्लॉग में, हम बारिश की सुंदरता को शब्दों में बंधने वाली बारिश शायरी की चमकीली दुनिया की खोज करेंगे। चाहे आप किसी कविता प्रेमी हों या सीधे से बारिश से प्यार करने वाले हों, यह ब्लॉग आपको निश्चित रूप से बारिश शायरी के जादू में डुबा देगा। हमें एक कप गरम चाय ले लें, एक आरामदायक कोने में संघर्ष करें और चलिए इस कविताओं से भरपूर बारिशी यात्रा पर निकलें! बारिश की बूंदों को बारिश शायरी की धुनों से हमारी आत्मा को गान करने दें। क्या आप तैयार हैं?


Hamare blog "Baarish Shayari" par aapka swagat hai! Varsha hamesha se pyaar, junoon aur romance ka prateek rahi hai, saahitya aur kavita mein. Yeh khushi se dukh tak ki ek vibhinn bhavana ko jaagrit karti hai aur sadiyon se kaviyon aur lekhakon ko prerit karti hai. Is blog mein, hum baarish ki sundarta ko shabdon mein bandhne wali baarish shayari ki chamkili duniya ki khoj karenge. Chahe aap kisi kavita premi ho ya seedhe se baarish se pyaar karne wale ho, yeh blog aapko nishchit roop se baarish shayari ke jaadu mein duba dega. Hamein ek kap garam chai le len, ek aaram dayak kone mein sangharsh karen aur chaliye is kavitao se bharpoor baarishi yatra par nikle! Baarish ki boondon ko baarish shayari ki dhunon se hamari aatma ko gaan karne den. Kya aap taiyaar hain?



#1
barish shayari in hindi


Barish ki boondein girti hain,
Dil ki gehraiyon mein utar jaati hain.
बारिश की बूँदें गिरती हैं,
दिल की गहराइयों में उतर जाती हैं।

#2
barish shayari in hindi

Barish ke mausam mein
Zindagi ko nayi khushi milti hai.
बारिश के मौसम में
ज़िंदगी को नई ख़ुशी मिलती है।


#3
barish shayari in hindi

Barsaat ki har boond mein,
Tumhari yaad aa jaati hai.

बरसात की हर बूंद में,
तुम्हारी याद आ जाती है।


#4
barish shayari in hindi

Barish ka mausam hai,
Yaadon ki bheegi hui parchhaiyan hain.
बारिश का मौसम है,
यादों की भीगी हुई परछाईं हैं।


#5
barish shayari in hindi

Barsaat ki har boond mein
Tumhein yaad karna acha lagta hai.
बरसात की हर बूंद में
तुम्हें याद करना अच्छा लगता है।


#6 Barish ka maza hai,
Khushi ka ehsaas hai.

बारिश का मज़ा है,
ख़ुशी का एहसास है।


#7 Palkon ki bundein barasti hain,
Dil ki dhadkan barasti hain.

पलकों की बूंदें बरसती हैं,
दिल की धड़कन बरसती हैं।


#8 Barish ke saaye mein
Mere dard ka ehsaas nahi hota.
बारिश के साए में
मेरे दर्द का एहसास नहीं होता।


#9 Barish ke saaye mein
Khushboo ki taazgi hai.
बारिश के साए में
ख़ुशबू की ताजगी है।


#10 Barish ki khushbu mein
Tumhari yaad aa jaati hai.

बारिश की ख़ुशबू में
तुम्हारी याद आ जाती है।


#11 Barsaat ki har boond mein
Pyar ki chahat hai.

बरसात की हर बूंद में
प्यार की चाहत है।


#12 Barish ke mausam mein
Pyar ki gehraiyon mein khud ko kho do.

बारिश के मौसम में
प्यार की गहराइयों में खुद को खो दो।


#13 Barish ka maza hai,
Tanhai ki dastaan hai.

बारिश का मज़ा है,
तन्हाई की दास्तान है।


#14 Barish ke mausam mein
Apno se milne ka bahana hai.

बारिश के मौसम में
अपनों से मिलने का बहाना है।


#15 Palkon ki bundein barasti hain,
Zindagi ki kahaniyan barasti hain.
पलकों की बूंदें बरसती हैं,
ज़िंदगी की कहानियां बरसती हैं।


#16 Barish ki har boond mein
Mohabbat ka ehsaas hai.
बारिश की हर बूंद में
मोहब्बत का एहसास है।


#17 Barish ke mausam mein
Tumhari yaadon ka saath hai.
बारिश के मौसम में
तुम्हारी यादों का साथ है।


#18 Barish ka mausam hai,
Lamhon ki kahaniyan hai.
बारिश का मौसम है,
लम्हों की कहानियां हैं।


#19 Barish ke saaye mein
Zindagi ki khushiyaan hai.
बारिश के साए में
ज़िंदगी की खुशियां हैं।


#20 Barish ki har boond mein
Dard ki gehraiyon mein utar jaati hai.
बारिश की हर बूंद में
दर्द की गहराइयों में उतर जाती है।


#21 Barsaat ki boondein bikhri hain khushiyon ki talaash mein,
Mere dil ka haal puchti hain ye mausam ki barish ke jhoolon mein.
बारिश की बूंदें बिखरी हैं खुशियों की तलाश में,
मेरे दिल का हाल पूछती है ये मौसम की बारिश के झूलों में।


#22 Barish ki bundein bheegati hain har chehra apna paatay hue,
Is mausam mein koi khud ko chhupata hai aur koi apne aansuon ko.
बारिश की बूंदें भीगती हैं हर चेहरा अपना पानी में,
इस मौसम में कोई खुद को छुपाता है और कोई अपने आंसूओं को।


#23 Har bund ka khel hai ye barsaat ka mausam,
Har taraf dekho toh bas paani hi paani hai.

हर बूंद का खेल है ये बारिश का मौसम,
हर तरफ देखो तो बस पानी ही पानी है।


#24 Bheegi si zindagi, bheega sa mann,
Bheega sa yaar, bheegi si aankhein.
भीगी सी जिंदगी, भीगा सा मन,
भीगा सा यार, भीगी सी आँखें।


#25 Ye barsaat ke din, ye masti bhare pal,
Is mausam ki khushboo mein kuchh apna sa hai.

ये बारिश के दिन, ये मस्ती भरे पल,
इस मौसम की खुशबू में कुछ अपना सा है।


#26 Barsaat ke mausam mein, khushiyon ki ghata chhayi hai,
Har ek cheez nayi si lag rahi hai, jaise koi sapna sa hai.

बारिश के मौसम में, खुशियों की घटा छाई है,
हर एक चीज़ नई सी लग रही है, जैसे कोई सपना सा है।


#27 Barsaat ke is mausam mein, koi na koi yaad aati hai,
Koi khwaish poori ho jaane ki, koi dard bhi bhool jaane ki.
बारिश के इस मौसम में, कोई ना कोई याद आती है,
कोई ख्वाहिश पूरी हो जाने की, कोई दर्द भी भूल जाने की।


#28 Pehle toh barish ki bundein bhar ke aayi thi,
Phir aankhon se tapke, dil se tapke, har jagah barsegi.
पहले तो बारिश की बूंदें भर के आई थी,
फिर आँखों से टपके, दिल से टपके, हर जगह बरसेगी।


#29 Ye barsaat ka mausam, ye pyaar bhari shaam,
Is khushi ke geet mein, kho jaate hain hum.
ये बारिश का मौसम, ये प्यार भरी शाम,
इस खुशी के गीत में, खो जाते हैं हम।


#30 Barsaat ke is mausam mein, kuchh aisa nasha hai,
Jaise koi jaam ka nasha ho, ya fir koi pyaar ka nasha ho.

बरसात के इस मौसम में, कुछ ऐसा नशा है,
जैसे कोई जाम का नशा हो, या फिर कोई प्यार का नशा हो।


#31 Barsaat ki boondein, khushiyon ki nishaani,
Har koi aaj khud ko bhool jaane ko taiyaar hai.

बरसात की बूंदें, खुशियों की निशानी,
हर कोई आज खुद को भूल जाने को तैयार है।


#32 Barsaat ke dinon mein, dil ki baat nikalti hai,
Har ek baat mausam ki khushboo mein chipi hoti hai.

बरसात के दिनों में, दिल की बात निकलती है,
हर एक बात मौसम की खुशबू में छिपी होती है।


#33 Ye barsaat ki raat, ye gehri si yaadon ki chaadar,
Kuchh aise lamhe jo humesha yaad rahenge humein.
ये बरसात की रात, ये गहरी सी यादों की चादर,
कुछ ऐसे लम्हे जो हमेशा याद रहेंगे हमें।


#34 Bheegi si shaam, bheegi si yaadon ki aanch,
Har chehra apna sa, har jazbaat apne saath.

भीगी सी शाम, भीगी सी यादों की आंच,
हर चेहरा अपना सा, हर जजबात अपने साथ।

#35 Ye barsaat ki raat, ye khushiyon ka jaadu,
Kuchh aisa hai is mausam mein, jaise koi saugaat ho.
ये बरसात की रात, ये खुशियों का जादू,
कुछ ऐसा है इस मौसम में, जैसे कोई सौगात हो।


#36 Barsaat ke is mausam mein, koi apna sa lagta hai,
Har chehra khush hai, har dil khush hai, har pal khush hai.

बरसात के इस मौसम में, कोई अपना सा लगता है,
हर चेहरा खुश है, हर दिल खुश है, हर पल खुश है।


#37 Barsaat ki bundein, yaadon ki leheren,
Har ek pal khushiyon se bhara hai, jaise koi khwaab sa hai.
बरसात की बूंदें, यादों की लहरें,
हर एक पल खुशियों से भरा है, जैसे कोई ख्वाब सा है।


#38 Ye barsaat ka mausam, ye khushiyon ki bahaar,
Har ek cheez nayi si lag rahi hai, jaise koi taazgi ka haar.
ये बरसात का मौसम, ये खुशियों की बहार,
हर एक चीज़ नयी सी लग रही है, जैसे कोई ताजगी का हार।

No comments

Powered by Blogger.